2019 Expectations from Indian and World economy in new year | भारत बना रहेगा सबसे तेज ग्रोथ वाला देश, दुनिया से दोगुनी होगी विकास दर

15

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

2019 Expectations from Indian and World economy in new year | भारत बना रहेगा सबसे तेज ग्रोथ वाला देश, दुनिया से दोगुनी होगी विकास दर

  • पिछले साल के उतार-चढ़ाव से उबर रही भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए यह साल अच्छा
  • 64% कंपनियों का मानना है कि वे इस साल पिछले साल से ज्यादा नौकरियां देंगी
  • 20% कंपनियां पिछले साल के बराबर हायरिंग करेंगी।

Dainik Bhaskar

Jan 01, 2019, 06:34 AM IST

नई दिल्ली. भारत 2019 में भी दुनिया की सबसे तेज ग्रोथ वाली इकोनॉमी बना रहेगा। रिजर्व बैंक का अनुमान है कि 2018-19 में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.4% और 2019-20 में 7.5% रहेगी। मूडीज ने 2019 और 2020 में 7.3% ग्रोथ का अनुमान लगाया है। आईएमएफ के अनुसार 2018-19 में विकास दर 7.3% और 2019-20 में 7.4% रहेगी। यह बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे अधिक होगी। आईएमएफ का कहना है कि नोटबंदी और जीएसटी का असर खत्म होने के बाद खपत में तेजी आएगी। खासकर निजी क्षेत्र की खपत। भारत की जीडीपी में निजी खपत की हिस्सेदारी 60% के आसपास है।

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में इस साल लक्ष्य टॉप-50 में आना

  1. वर्ल्ड बैंक ने 2019 के लिए ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग जारी की है। इसमें भारत को 77वां स्थान मिला। 2018 में भारत की यह रैंकिंग 100 थी। भारत सरकार इस रैंकिंग में टॉप-50 में आना चाहती है। भारत ने 10 इंडिकेटर्स में से 6 में बेहतर प्रदर्शन किया है। कंस्ट्रक्शन परमिट में भारत ने 129 स्थान की छलांग लगाई है और इस साल 52 पर पहुंच गया है। कारोबार शुरू करने में भारत को 137 रैंकिंग मिली है। क्रेडिट पाने में 22वां स्थान मिला है। बिजली मिलने के मामले में भारत को 24वीं रैंक मिली है।


  2. हायरिंग 15% बढ़ेगी: आईटी, ऑटो और हॉस्पिटैलिटी में मौके

    2019 में कंपनियों में 15% की बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है। आईटी, ऑटो सेक्टर के अलावा हॉस्पिटैलिटी में नौकरियों के ज्यादा मौके मिलेंगे। आईटी में डिजाइन और बिग डेटा एनालिटिक्स डेवलपर्स की ज्यादा मांग होगी। एआई/मशीन लर्निंग में टेक्नोलॉजी स्पेशलिस्ट की मांग बढ़ेगी। यह अनुमान इंडिया स्किल रिपोर्ट 2019 में जताया गया है। स्टाफिंग फर्म टीमलीज का आकलन है कि आईटी सेक्टर में नए साल में 2.5 लाख नई नौकरियां पैदा होंगी। कंपनियां इन क्षेत्रों में ऊंचे वेतन पर भर्तियां कर सकती हैं।


    s


  3. महिलाओं की भर्तियां 15-20% अधिक होगी

    नया साल कामकाजी महिलाओं के लिए अच्छा रहने वाला है। इंडिया स्किल रिपोर्ट के अनुसार बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज और इंश्योरेंस (बीएफएसआई), ऑटोमोटिव, आईटी, सॉफ्टवेयर, हॉस्पिटैलिटी और ट्रैवल सेक्टर में महिलाओं की भर्तियां 15-20% अधिक होने की उम्मीद है। 64% कंपनियों ने नए साल में हायरिंग को लेकर सकारात्मक रुख दिखाया है। वहीं, 20% कंपनियों ने कहा है कि वे 2018 के बराबर भर्तियां करेंगी।


  4. कर्मचारियों का औसत इन्क्रीमेंट 10-12% होगा

    एचआर फर्म ग्लोबल हंट के अनुसार 2019 में औसत इन्क्रीमेंट 10-12% रहेगा। टॉप परफॉर्मर का इन्क्रीमेंट 15-20% और औसत परफॉर्म करने वालों का 5-8% रह सकता है। फ्रांस की ह्यूमन रिसोर्स कंसल्टिंग फर्म की रिपोर्ट के मुताबिक- इस साल जीडीपीआर प्रोजेक्ट मैनेजर की सैलरी सबसे ज्यादा 58 से 82 लाख रुपए सालाना रह सकती है।


  5. इस साल ये संभावना

    • भारत का इलेक्ट्रॉनिक्स मार्केट सालाना 41% की दर से बढ़ रहा है। यह रफ्तार दुनिया में सबसे तेज है। यह 2.8 लाख करोड़ रुपए का हो जाएगा।
    • ई-कॉमर्स बाजार 24% की रफ्तार से बढ़ेगा। स्टैटिस्टा के मुताबिक ई-कॉमर्स बाजार 2.18 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगा। 
    • टेक-साई रिसर्च के अनुसार एफएमसीजी बाजार 7.25 लाख करोड़ का हो जाएगा। यह सालाना 20.6% की ग्रोथ से बढ़ रहा है।

  6. दुनियाभर में इन प्रोफेशनल्स की डिमांड बढ़ेगी

    प्रोफेशनल्स
    उनकी सैलरी
    जीडीपीआर प्रोजेक्ट मैनेज
    58-82 लाख रुपए
    फाइनेंशियल प्लानर
    34-74 लाख रुपए
    डेटा एनालिस्ट
    38-53 लाख रुपए 
    वेब डेपलपर
    30-56 लाख रुपए
    बिजनेस लॉयर
    29-57 लाख रुपए
    जनरल अकाउंटेंट
    20-55 लाख रुपए
    सेल्स मैनेजर
    19-28 लाख रुपए

    सोर्स: फ्रांस की ह्यूमन रिसोर्स कंसल्टिंग फर्म की रिपोर्ट।



Images are for reference only.Images gathered automatic from google.All rights on the images are with their original owners.

2019-01-04 18:09:37

Images are for reference only.Images gathered automatic from google.All rights on the images are with their original owners.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy